सोनी न्यूज़
प्रचार
  • राजधानी लखनऊ में शुभ अवसरों पर विज्ञापन एवं बधाई सन्देश देने के लिए सम्पर्क करे-8299589254 निखिल श्रीवास्तव संवाददाता–लखनऊ,पूरे उत्तर प्रदेश में शुभ अवसरों पर विज्ञापन एवं बधाई सन्देश देने के लिए सम्पर्क करे-9415596496 -9935930825 -पूरे बुन्देलखण्ड शुभ अवसरों पर विज्ञापन एवं बधाई सन्देश देने के लिए सम्पर्क करे-अशफाक अहमद बुन्देलखण्ड व्यूरो-मो-9838580073 -जनपद जालौन में शुभ अवसरों पर विज्ञापन एवं बधाई सन्देश देने के लिए सम्पर्क करे--मो-8299896742,श्यामजी सोनी मो-9839155683,अमित कुमार मो-7526086812,जनपद झाँसी में शुभ अवसरों पर विज्ञापन एवं बधाई सन्देश देने के लिए सम्पर्क करे-अरुण वर्मा मो-9455650524-जनपद आजमगढ़ में शुभ अवसरों पर विज्ञापन एवं बधाई सन्देश देने के लिए सम्पर्क करे-रामानुजाचार्य त्रिपाठी मो-9452171219-जनपद कानपुर देहात में शुभ अवसरों पर विज्ञापन एवं बधाई सन्देश देने के लिए सम्पर्क करे-मनोज कुमार सिंह मो-9616891028-
धर्म

उरई-रोज़ेदारो को अल्लाह का इनाम ईद-हाफिज मुहम्मद शोएब अंसारी।

उरई(जालौन)।हाफ़िज़ मुहम्मद शोएब अंसारी ने बताया कि हर धर्म मे खुशी मनाने के कई पर्व होते है उसी प्रकार के मुसलमानों के लिए ईद उल फित्र है मगर यहाँ खुशी का अभिप्राय अपनी निजी खुशी नही बल्कि इसका सैद्धान्तिक अर्थ है कि हम दूसरों को कितनी खुशी दे सकते है वैसे यह भी कहा जाता है कि ईद अल्लाह की ओर से उन लोगो का इनाम है जिन्होंने रमज़ान के पूरे माह रोज़े रखे है आजकल गर्मी का मौसम है और रोज़े में एक व्यक्ति सबेरे तीन बजे से लेकर शाम सात बजे तक बिना खाए ओर पानी की एक बूंद पिये बिना रहता है इसका एक भावनात्मक पहलू यह भी है कि हमे पता चल जाता है कि एक निर्धन ओर फकीरों की क्या स्थिति रहती है इसके अतिरिक्त तीस रोजो में हर व्यक्ति को हर प्रकार की बुराई काम क्रोध लोभ मोह आदि से किनारा करना होता है वैसे भी ईद में जो शब्द फित्र आता है उसका अर्थ होता है कि ईद की नमाज़ एवं त्योहार से पूर्व फितरा यानी दान देना ताकि उससे निर्धन लोग भी हँसी-खुशी त्योहार मना सके ईद का एक किस्सा है हज़रत मुहम्मद स०ल०ह जब मक्का की किसी सड़क से गुजर रहे थे तो उन्हें रोते हुए एक अनाथ बच्चा दिखाई दिया जो कह रहा था कि उसका कोई नही है जब आपने उसे देखा तो उसका पुचकारा ओर अपने साथ ले जाकर उसे कपडे दिलवाए भोजन ओर मिठाई दिलवाई वह सब लेकर बच्चा खुशी-खुशी दौडता हुआ अपने ठिकाने पर गया और सबको बताया कि इस प्रकार हज़रत मुहम्मद ने उसके आँसू पोछे और औरो की तरह उसे भी त्योहार की खुशियों में शामिल किया इस्लाम की भी यही भावना है कि अगर आपके पड़ोसी ने खाना नही खाया तो आपका कर्तव्य बनता है कि उसके पास जाए ओर जिस रूप से भी हो सके सहायता करे आमतौर पर ईद का त्योहार धार्मिक अधिक समाजिक भावनाओ से जुड़ा हुआ है इसमें कोई दोहराई नही है कि जहाँ तक साम्प्रदायिक सदभाव ओर आपसी मेल-जोल की भावना का प्रश्न है ईद उस पर खरी उतरती हैं।
ईद का अर्थ होता है-प्रसन्नता

रिपोर्ट-अमित कुमार क्राइम रिपोर्टर उरई जनपद जालौन

Content Protection by DMCA.com

ये भी पढ़ें :

राम पैड़ी में 5 लाख 51हजार दीपो के दीपोत्सव में गिनीज़ बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकॉर्ड में हुआ दर्ज

Ajay Swarnkar

जालौन-पचीपुरा कला में अज्ञात लोगों ने भगवान शंकर की मूर्ति क्षतिग्रस्त कर तालाब में फेंकी।

Anmol Kumar

जालौन-16मार्च से 30 मार्च तक 36वा सवा करोड़ पार्थिव शिवलिंग महोत्सव लक्ष्मी नारायण यज्ञ श्रीमद् भागवत कथा।

Anmol Kumar

अपना कमेंट दें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.