सोनी न्यूज़
जालौन

पैसा,जेवरात लूटने एवं दुष्कर्म के झूठे आरोप फंसाये जाने को लेकर एसपी से शिकायत

पीड़ित ने न्याय की गुहार लगाते हुए जांच की उठाई मांग एसपी से

उरई /जालौन। पैसा, जेवरात लूटने एवं दुष्कर्म के झूठे आरोप में फंसाये जाने के मामले की शिकायत किशोर कुमार पुत्र भगवान दास अनुसूचित जाति का व्यक्ति हूं एवं निवासी ग्राम गोरा भूपका थाना गोहन ने पुलिस अधीक्षक को ज्ञापन देते हुए जांच कर न्याय की गुहार लगाई है।
एसपी को शिकायती पत्र देते हुए किशोर कुमार ने बताया है कि वह ग्राम पंचायत गोरा भूपका में मनरेगा योजना के अंर्तगत पंचायत मित्र के पद पर संविदा पर 14 वर्ष से तैनात है इस दौरान किसी भी मनरेगा श्रमिक से विवाद व झगड़ा नहीं हुआ है। बताया कि वह पिछले कई महीनों से बीमार चल रहा है जिसकी बजह से ग्राम पंचायत में कोई भी निर्माण कार्य नहीं करवाया गया है तथा जो मनरेगा कार्य करवाये जा रहे है वह वर्ष 2021में ग्राम प्रधान उसके पति धर्मेंद्र कुमार प्रजापति जो ग्राम प्रधान के प्रतिनिधि है उनके द्वारा कराये गये है।
जब श्रमिकों ने मजदूरी न मिलने तथा भ्रष्टाचार पर रोक लगाने की शिकायत हमारे साथ में जाकर विकास खंड अधिकारी माधौगढ़ से 27 अगस्त को की थी।
इस मामले की जानकारी प्रधान पति को हुई तो उन्होंने षड़यन्त्र रचकर अपनी ही पिछड़ी जाति कुम्हार महिला सुनीता देवी पुत्री छोटे लाल जो परिवार की सदस्य है से हमारे खिलाफ शिकायती पत्र दिलवाया गया जिसमें महिला ने मेरे ऊपर पैसा, जेवरात लूटने तथा दुष्कर्म का झूठा आरोप लगाकर जेल भिजवाने की साजिश प्रधान पति कर रहा है।पीड़ित किशोर कुमार का आरोप है कि उक्त महिला की शादी 6 वर्ष पहले कुठौंद थाना क्षेत्र के रोमई मुस्तिकिल गांव में हुई है जो ससुराल में रहती है जिसका गांव से कोई लेना देना नहीं है और न ही उसका जाँब कार्ड बना है। फिर भी झूठे मामले फंसाये जाने की धमकी दे रही है। पीड़ित ने एसपी से मामले की जांच करवाये जाने की मांग उठाई है जिससे उसे न्याय मिल सके।

 

रिपोर्ट-अमित कुमार उरई जनपद जालौन।

ये भी पढ़ें :

“गुरु पूर्णिमा” के अवसर पर 5 कुण्डीय यज्ञ का होगा आयोजन

Ajay Swarnkar

उरई नगर मजिस्ट्रेट सुनील कुमार शुक्ला की अध्यक्षता में डी0सी0सी0 बैठक का आयोजन विकास भवन सभागार उरई में सम्पन्न हुआ।

AMIT KUMAR

महिला दिवस पर सशक्तीकरण कार्यक्रम का हुआ आयोजन

Lavkesh Singh

अपना कमेंट दें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.