सोनी न्यूज़
उत्तराखंड

उत्तराखंड के नए मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत पर भड़के अविमुक्तेश्वरानंद

 

ज्योर्तिमठ आदि गुरु शंकराचार्य स्वरूपानंद महाराज के परम शिष्य अविमुक्तेश्वरानंद ने जोशीमठ में पत्रकार वार्ता में उत्तराखंड के नए मुख्यमंत्री पर जमकर हमला किया उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय सेवा संघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष मोहन भागवत मैं मुझसे मिलने का समय मांगा तो मैंने उन्हें समय दिया और उन्होंने 1 घंटे का समय मांगा तो मैंने 1 घंटे से अधिक समय बाद उन्हें मिलने का वक्त दिया। लेकिन संघ के प्रांत प्रचारक ने मुझे मिलने का वक्त दिया और मिले नहीं और मेरी उपेक्षा की जो साधु संत का बड़ा अपमान है

बताते चलें 2 दिन पूर्व शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद महाराज के शिष्य अविमुक्तेस्वरानंद महाराज उत्तराखंड के नए मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत जी से मिलने का समय मांगा था जिसके बाद उन्हें समय मिला था लेकिन एक घंटा इंतजार करने के बाद भी मुख्यमंत्री उत्तराखंड द्वारा अविमुक्तेस्वरानंद महाराज को नहीं मिल पाए जिसके बाद महाराज वहां से वापस लौट आए

 

बताते चलें कि जगतगुरु शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद महाराज द्वारा जोशीमठ जोशीमठ में एक 100 बेड का अस्पताल बनाने की बात कही जिसके बाद शंकराचार्य द्वारा उत्तराखंड सरकार से जमीन की दरकार की गई शंकराचार्य के माध्यम से अस्पताल बनाया जाएगा जिसमें जमीन सरकार की होगी लेकिन अस्पताल शंकराचार्य द्वारा बनाया जाएगा जिसमे डॉक्टर सहित अस्पताल में आधुनिक मशीने शंकराचार्य द्वारा लगाई जानी थी, इसी वजह से जगतगुरु शंकराचार्य जी के शिष्य अविमुक्तेस्वरानंद महाराज उत्तराखंड के मुख्यमंत्री से मिलने पहुंचे थे लेकिन उन्हें मुख्यमंत्री जी के कार्यालय द्वारा समय देने के बावजूद मुख्यमंत्री से मुलाकात नहीं हो पाई जिस पर अविमुक्तेस्वरानंद महाराज द्वारा अब खुद ही जमीन खरीद की जा रही है और उस जमीन पर एक आधुनिक अस्पताल बनाया जाएगा जिससे जोशीमठ के लोगों को हमेशा की तरह देहरादून ना जाना पड़े, इसी बात पर अविमुक्तेस्वरानंद महाराज उत्तराखंड के नए मुख्यमंत्री से चिढ़ गए हैं,

Content Protection by DMCA.com

ये भी पढ़ें :

कनखल स्थित पहाड़ी बाजार मे महिला की संदिग्ध परिस्थितियों मे मौत।

Ajay Swarnkar

नेपाल की तरह हम भी ऐसा कर सकते है-मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत

Ajay Swarnkar

राष्ट्रीय महिला कल्याण समिति ने शहीदों का किया सम्मान समारोह

Ajay Swarnkar

अपना कमेंट दें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.