सोनी न्यूज़
उत्तर प्रदेश

21,000 आरोग्य सेतु ऐप का डाउनलोड व मंडल में पार्सल, स्पेशल ट्रैन का संचालन तथा आर.पी.एफ. द्वारा फ़ूड पैकेट का हुआ वितरण

 

लखनऊ:कोविड -19 के प्रसार की रोकथाम और आवश्यक वस्तुओं के परिवहन के प्रयासों की महाप्रबंधक श्री राजीव चौधरी द्वारा उत्तर रेलवे एवं उत्तर मध्य रेलवे के प्रमुख विभागाध्यक्षों और अन्य वरिष्ठ अधिकारियों के साथ नियमित समीक्षा की जा रही है साथ ही मुख्यालय एवं मंडलों के अधिकारियों द्वारा फ्रंटलाइन स्टाफ के साथ नियमित वार्ता और जमीनी वास्तविकताओं के बारे जानने के साथ ही स्टाफ को प्रेरित किया जा रहा है। रेल मंत्रालय ने दिनांक 04.04.2020 को सूचित किया था कि, आयुष मंत्रालय द्वारा बनाया गया आरोग्य सेतु ऐप कोविड-19 के विरुद्ध लड़ाई में रेल कर्मियों एवं उनके परिवार के सद्स्यों में बहुत प्रभावी होगा। यह भी सूचित किया गया कि, आयुष मंत्रालय ने रेल कर्मियों एवं उनके परिवारों को ध्यान में रखते हुए उनमे रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए एक प्रोटोकॉल बनाया है।महाप्रबंधक श्री राजीव चौधरी द्वारा इस ऐप को अधिकाधिक डाउनलोड करने पर बल दिया था। इसके फलस्वरूप अबतक उत्तर रेलवे , लखनऊ मण्डल के लगभग 21,000 रेलकर्मियों और उनके परिवारजनों ने यह ऐप डाउनलोड कर लिए हैं एवम् मंडल में कार्यरत संविदाकर्मियों सहित अन्य श्रमिकवर्ग को भी इस ऐप के प्रति जागरूक करते हुए उन सभी को तथा उनके पारिवारिक सदस्यों को भी इस ऐप के जोड़ने की प्रक्रिया को यथाशीघ्र संपूर्ण करने की दिशा में निरंतर प्रयासरत है।

भारतीय रेल ने कोरोना संक्रमण के चलते राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के दौरान देश के प्रत्येक स्थान पर आवश्यक वस्तुओ की आपूर्ति को सुनिश्चित करने के लिए अनेक पार्सल विशेष रेलगाड़ियों को संचालित किया गया है । लखनऊ मंडल से होकर गुजरने वाली पार्सल ट्रेनों में स्थानीय व्यापारी, व्यावसायिक संगठन, व्यावसायिक प्रतिष्ठान एवं अन्य व्यापारी वर्ग के लोग अपने सामान तथा आवश्यक सामग्री को अपने वांछित स्थानों तक प्रेषित कर सकते हैं । इन पार्सल विशेष ट्रेनों का प्रमुख उद्देश्य संपूर्ण देश में आवश्यक वस्तुओं की निर्बाध आपूर्ति को यथासमय उपलब्ध कराना है। इस संबंध में स्थानीय व्यापारी , औद्योगिक प्रतिष्ठान एवम् व्यापारिक केंद्र अपनी आवश्यक सामग्री के परिवहन की सुविधा हेतु सहायक वाणिज्य प्रबंधक, उत्तर रेलवे, लखनऊ श्री मिलन कुमार सोनकर (9794833960), मुख्य पार्सल पर्यवेक्षक/उ. रे.लखनऊ श्री पी.के .ओझा 9794833988, 9794846830 एवम् मुख्य पार्सल पर्यवेक्षक, वाराणसी ,श्री अरुण गुप्ता, 9794833990 से फोन के द्वारा संपर्क कर सकते हैं।


लखनऊ मंडल के अंतर्गत आने वाले सभी स्टेशनों के आस पास रह कर जीवन यापन करने वाले गरीब,अनाथ,बेसहारा,दैनिक मजदूर एवं अन्य श्रमिक सबसे ज्यादा प्रभावित हैं और उनके समक्ष भुखमरी का विषम संकट पैदा हो गया है ।अतः ऐसे व्यक्तियों एवं उनके परिवारों के प्रति अपनी मानवीय संवेदनाओं को दर्शाते हुए मंडल के प्रमुख एवं अन्य स्टेशनों पर रेलवे सुरक्षा बल द्वारा भोजन,पानी इत्यादि नियमित रूप से उपलब्ध कराया जा रहा है साथ ही निराश्रित एवम् असहाय पशुओं के प्रति भी दया भाव दर्शाते हुए उनके लिए भी भोज्य पदार्थ की व्यवस्था की जाती है। लखनऊ एवं वाराणसी स्टेशन पर जरूरतमंद व्यक्तियों के मध्य समुचित मात्रा में भोजन का वितरण किया जा रहा है साथ ही मंडल के अन्य स्टेशनों पर भी इस कल्याणकारी कार्य को नित्यप्रति संपादित किया जा रहा है। इस पुनीत कार्य में मंडल के अन्य विभाग,स्काउट एवं गाइड, रेलवे की सहयोगी संस्थाएं , स्थानीय रेलकर्मी तथा कुछ निजी संस्थाएं भी पूर्ण निष्ठा से सेवाभाव के साथ अपना अप्रतिम सहयोग तथा योगदान प्रदान कर रही हैं |


मंडल रेल प्रबंधक,श्री संजय त्रिपाठी ने अवगत कराया कि वर्तमान वैश्विक आपदा को दृष्टिगत रखते हुए मंडल के द्वारा नित नवीन गतिविधियों एवं कार्य प्रणालियों को अत्यंत योजनाबद्ध,एवम् चरणबद्ध प्रारूप से अमल में लाया जा रहा है तथा वर्तमान समय की प्रत्येक गतिविधि को दृष्टिगत रखते हुए पूर्ण जागरूकता से सतर्कता पूर्वक वांछित व्यवस्था को तत्काल प्रभाव के क्रियान्वित करने का प्रावधान किया जा रहा है।मंडल के कर्मचारी भारत सरकार द्वारा जारी समस्त निर्देशों के शत प्रतिशत अनुपालन के साथ अनवरत पूर्ण मनोयोग से अपने कार्य का संपादन कर रहे हैं।आपदा की इस घड़ी में मंडल राष्ट्र को अपनी सर्वोच्च सेवाएं प्रदान करने हेतु अविचल भाव से निष्ठापूर्वक कृत्संकल्पित है।

Content Protection by DMCA.com

ये भी पढ़ें :

स्वदेशी ई-कॉमर्स कंपनी फ्लिपकार्ट ने यूपी सरकार को दिए 50 हजार पीपीई किट

Ajay Swarnkar

​माहिल तालाब में आशिकी करते जोड़ो को 100 no ने दबोचा

Divyansh Pratap Singh

यूपी में देर रात हुआ प्रशासनिक बड़ा फेरबदल। सरकार ने सात जिलों के डीएम बदले।

AMIT KUMAR

अपना कमेंट दें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.