सोनी न्यूज़
Other उत्तर प्रदेश जालौन

जालौन- लो वोल्टेज व बिजली कटौती से जनपद वासियो को कब मिलेगी निजात।

कोंच(जालौन)कोंच क्षेत्र में इन दिनों बिजली की अघोषित कटौती व लो वोल्टेज के कारण ग्रामीणों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।अघोषित कटौती तथा लो वोल्टेज की समस्या के चलते ग्रामीण क्षेत्र के उपभोक्ता बहुत परेशान हैं बिजली विभाग की लापरवाही के कारण ग्रामीणों में भारी रोष देखने को मिल रहा है। इससे आक्रोशित होकर ग्राम धनोरा व तितरा के किसानों ने आज 33 के वी ए पावर हाउस का घेराव कर नियमित बिजली आपूर्ति करने की मांग की कोंच क्षेत्र के धनोरा तितरा आदि गांवों में कुछ समय से लोग कम वोल्टेज की समस्या से जूझ रहे हैं ग्रामीणों का आरोप है कि उक्त गांवों के लोगों को बिजली विभाग की लापरवाही के चलते परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। आए दिन बिजली आपूर्ति में बाधा आ रही है। बिजली न आने से किसानों की फसलों की सिचाई नहीं हो पा रही है। धनोरा गांव निवासी दिनेश बाबू का कहना है कि पिछले कई दिनों से गांव में लो वोल्टेज व बिजली कटौती के कारण जहां बिजली के पंखे व अन्य उपकरण, आदि नहीं चल रहे हैं, वहीं गर्मी के कारण रात के समय लोग सो नहीं पाते। ग्रामीण बिजली विभाग व संबंधित विभागीय अधिकारियों से समस्या की शिकायत कई बार कर चुके हैं, लेकिन समस्या का समाधान आज तक नहीं हो सका है। तितरा गांव निवासी ब्रजपाल सिंह ने बताया कि गांव में बिजली आपूर्ति न आने से किसानों की धान व अन्य फसलों की सिचाई नहीं हो पा रही है। ग्रामीण संबंधित अधिकारियों से लो वोल्टेज व कम बिजली आपूर्ति की शिकायत कर चुके हैं, लेकिन समस्या जस की तस बनी हुई है। ग्रामीणों का कहना है कि यदि शीघ्र ही लो वोल्टेज की समस्या से छुटकारा नहीं मिला तो उच्चाधिकारियों से शिकायत करेंगे।एवं धरना प्रदर्शन करेंगे। मौके पर पहुँचे उपजिलाधिकारी ने ग्रामीणों को समझाया व दो दिन में विजली व्यवस्था दुरस्त करने का आश्वासन दिया।

 

रिपोर्ट-अमित कुमार जनपद जालौन।

Content Protection by DMCA.com

ये भी पढ़ें :

पत्रकारो के साथ बदसुलूकी करने वाले उपुलिस कर्मियों के खिलाफ दर्ज होगी FIR

Divyansh Pratap Singh

उरई-भारतीय जन नाटक संघ(इप्टा) उरई ने राष्ट्रपति को भेजा ज्ञापन

Ajay Swarnkar

जालौन-शिवपाल सिंह यादव फैन्स एसोसिएशन की जालौन टीम ने बांटे गरीबों को कम्बल

AMIT KUMAR

अपना कमेंट दें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.