जन कल्याणकारी योजनाओं का लाभ पात्र लाभार्थियों को मिले: कैबिनेट मंत्री

उरई(जालौन)। राष्ट्रीय अध्यक्ष निषाद पार्टी एवं कैबिनेट मंत्री मत्स्य विभाग उत्तर प्रदेश, डा. संजय निषाद ने लोक निर्माण विभाग के निरीक्षण भवन में प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना की समीक्षा बैठक कर संबंधित अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिए।
उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना का लाभ पात्र लाभार्थियों को न देकर अपात्र व्यक्तियों को लाभ देने की शिकायत से जिलाधिकारी को अवगत कराया। जिलाधिकारी चांदनी सिंह ने उक्त शिकायतों को गंभीरता से लेते हुए कहा कि मत्स्य अधिकारियों द्वारा लापरवाही बरती गई है। उसकी जांच उपरांत दोषी पाए जाने पर कड़ी कार्यवाही की जाएगी। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मत्स्य योजना अंतर्गत पात्र लाभार्थियों को ही लाभान्वित किया जाएगा। कैबिनेट मंत्री डा. संजय निषाद ने कहा कि मत्स्य विभाग द्वारा चलाई जा रही जन कल्याणकारी योजनाओं का लाभ पात्र लाभार्थियों को दिया जाए अनियमितता पाए जाने पर संबंधित विभाग के अधिकारियों पर कठोर कार्यवाही अमल में लाई जाएगी इसमें किसी भी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मत्स्य विभाग को बेहतर बनाने के लिए इस विभाग को अलग से बनाया है जिससे निषाद समाज के लोगों का उत्थान हो सके। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार ने मछुआरे समाज के लिए मत्स्य कल्याण बोर्ड की स्थापना की है। जिसमें 70 साल से दबे, कुचले एवं अंग्रेजों मुगलों द्वारा उत्पीड़न किया गया है, उनके उत्थान के लिए योजना बनाई गई है। जिससे उनके गांव में लाइब्रेरी कम्युनिटी हॉल के साथ-साथ जिनके मकान नदियों की वजह से उजड़ गए हैं। उनको प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत मकान बनाए जाएंगे साथ ही दुर्घटनाओं में घायल बीमारियों के लिए कल्याण बोर्ड के द्वारा धनराशि देकर उनका बेहतर इलाज कराया जाएगा। उन्होंने कहा कि उन्हें सशक्त बनाने के लिए ट्रेनिंग सेंटर की खोले जाएंगे जिससे उनको ट्रेनिंग दी जा सके और विभाग के जरिए अनुदान देकर अपना कारोबार कर सकें। इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक ईरज राजा, नगर मजिस्ट्रेट कुंवर वीरेंद्र मौर्य, मुख्य कार्यकारी अधिकारी मत्स्य विभाग दीपमाला सहित संबंधित अधिकारी मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.