सोनी न्यूज़
उत्तर प्रदेश

माफिया अतीक अहमद की जब्त की गई जमीन पर फ्लैट खरीदने वालों की मची होड़,हर फ्लैट पर 80 दावेदार

प्रयागराज। उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में माफिया अतीक अहमद की जब्त की गई जमीन पर घर लेने वालों में जबरजस्त होड़ मची हुई है।अफोर्डेबल हाउसिंग स्कीम के तहत शहरी प्रधानमंत्री आवास योजना के माध्यम से यहां पर 76 फ्लैट बन रहे हैं।इन फ्लैटों के आवंटन के लिए 30 जून से 31 जुलाई तक 6071 लोगों ने रजिस्ट्रेशन कराया है।

रजिस्ट्रेशन से पंजीकरण की धनराशि 160 रुपए और 5000 रुपए आवेदन शुल्क को मिलाकर तीन करोड़ 13 लाख 26हजार 360 रुपए प्रयागराज विकास प्राधिकरण को प्राप्त हुए हैं।इसके हिसाब से एक फ्लैट के लिए 80 लोगों ने आवेदन किया है।इसी योजना पर काम करते हुए पीडीए 76 फ्लैट तैयार कर रहा है। 4 मंजिला ये बिल्डिंग पूरी तरह से ग्रीन बिल्डिंग होगी और इसमें आवंटियों को पार्किंग और कम्यूनिटी हाल जैसी सुविधाएं भी मिलेंगी।

प्रयागराज विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष अरविंद सिंह चौहान के मुताबिक प्रधानमंत्री शहरी आवास योजना के तहत बनाए जा रहे 76 फ्लैटों का निर्माण कार्य दिसंबर 2022 तक पूरा हो जाएगा।कुल आए 6071 आवेदनों को सूडा के पास भेजा जाएगा।इसके बाद आवेदन पत्रों की जांच की जाएगी और फाइनल सूची पीडीए को सौंपी जाएगी।इसके बाद पीडीए द्वारा लाटरी से इन फ्लैटों का आवंटन किया जाएगा।

आपको बता दें कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने खुद 26 दिसंबर 2021 को इसका शिलान्यास किया था।शहर की पाश कॉलोनी लूकरगंज में 1731 वर्ग मीटर भूमि पर 76 फ्लैटों का निर्माण कराया जा रहा है।ये जमीन भू माफिया घोषित हो चुके माफिया पूर्व सांसद अतीक अहमद के कब्जे से मुक्त कराई गई थी।सीएम योगी ने 16 दिसंबर 2020 को शहर के केपी मैदान में अधिवक्ताओं के समागम में घोषणा की थी कि माफियाओं से कब्जे से खाली कराई गई जमीनों पर गरीबों के लिए नो प्रॉफिट नो लॉस के आधार पर मकान बनाए जाएंगे।माफिया अतीक अहमद से खाली कराई गई जमीन पर पूरे यूपी में बनने वाला यह योगी सरकार का पहला ड्रीम प्रोजेक्ट है।

ये भी पढ़ें :

रेंढर थाना पुलिस ने वाहनों की चेकिंग कर बाहन चालकों को हेलमेट व शीट बेल्ट लगाने की दी हिदायत

AMIT KUMAR

बड़ी खबर:बाल बाल बचे यात्री गोदिया एक्सप्रेस में ड्राइवर की समझदारी से बाल बाल बचे यात्री

Ajay Swarnkar

पत्रकार पर दबंगों ने किया एसिड अटैक,घायल पत्रकार को कानपुर किया रिफर

Ajay Swarnkar

अपना कमेंट दें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.