सोनी न्यूज़
बिज़नेस जालौन वीडियोस

इस केले के खेती कर जालौन का किसान हुआ मालामाल

जालौन में टिश्यू कल्चर से केले की खेती कर किसानों के प्रेरणास्रोत बने बृजेश

वैज्ञानिक खेती कर तरक्की की नई कहानी गढ़ रहे हैं।जालौन के किसान

जालौन:सूखे का दंश झेल रहे बुंदेलखंड के किसानों ने परंपरागत खेती को छोड़कर नई और वैज्ञानिक खेती कर तरक्की की नई कहानी गढ़ रहे हैं। जालौन  उरई तहसील के गांव अकोड़ी बैरागढ़ के रहने वाले किसान बृजेश त्रिपाठी उनमें से एक हैं, जिन्होंने महाराष्ट्र की प्रसिद्ध केले की प्रजाति जी-9 उगाकर लाभ कमाने में जुट गए हैं। वे जिले के पहले किसान हैं, जिन्होंने टिश्यू कल्चर से एक हेक्टेयर में केले की खेती की है। मुनाफा देखकर वे काफी खुश हैं। इस साल उन्होंने इसका रकबा बढ़ाने का निर्णय लिया है।

साल 2019 में पहली बार की खेती
किसान बृजेश त्रिपाठी ने बताया कि वे महाराष्ट्र के जलगांव गए थे। वहां पर उन्होंने केले की बागवानी देखी। जिसे देखकर उन्होंने अपनाने का निर्णय लिया। साल 2019 के अगस्त में उन्होंने अपने खेत में एक हेक्टेयर जमीन पर केले के पौधे लगाए। इस खेती में उन्होंने कोई भी रसायनिक खाद का प्रयोग नहीं किया। बल्कि घर और गांव में मिलने वाली गोबर खाद का प्रयोग किया। वर्तमान में उनके एक पौधे में 25 से 35 किलो की घार (फलों का गुच्छा) लगा है। उत्पादन को देखकर वे इस समय फूले नहीं समा रहे हैं।

अधिकांश जानकारी यूट्यूब से सीखा कैसे फसल को उन्नत बनाया जाए

पिता ब्रजेश त्रिपाठी के काम में उनका बेटा अतुल त्रिपाठी पूरा सहयोग देने में लगा है। अतुल ने बताया कि वे केले की खेती को कैसे और उन्नत बनाया जाए, इसके लिए लगातार यूट्यूब पर नई-नई चीजें खोजते रहते हैं। पौधे की सिंचाई, जमीन की गुड़ाई और फिर उसमें खाद डालने का काम कैसे किया जाए, यह सबकुछ वैज्ञानिक तरीके से किया जाता है। समय समय पर कीटाणुनाशक दवाओं का भी छिड़काव किया गया। कहा कि, अगर इसी तरह से किसान परंपरागत खेती के साथ आर्थिक मुनाफा देने वाली फसल को अपनाएं तो बुंदेलखंड का भी किसान खुशहाल हो जाएगा।

व्यूरो रिपोर्ट:soni news के लिए जनपद जालौन से अमित कुमार के साथ सुनीता सिंह

ये भी पढ़ें :

पुलिस अधीक्षक ने माधौगढ़ कोतवाली का किया वार्षिक निरीक्षण

Ajay Swarnkar

प्रधान मंत्री आवास योजना में पात्रों को नहीं मिल रहा है लाभ

Lavkesh Singh

जालौन-सोशल ऑडिट ग्राम का आयोजन किया गया

AMIT KUMAR

अपना कमेंट दें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.