सोनी न्यूज़
उत्तर प्रदेश

लॉकडाउन : रोस्टर प्रणाली से मिलेगा राशन

शहर में जारी लॉकडाउन को लेकर देखा जा रहा है कि राशन वितरण में इसका सही से पालन नहीं हो पा रहा है। इसको देखते हुए अब शासन ने निर्देशित किया है कि राशन वितरण प्रणाली में रोस्टर प्रणाली लागू होगी। ऐसे में अपने कार्ड के नंबर के आधार पर ही उपभोक्ता राशन दुकान में जायें और राशन लें। यह बातें जिलाधिकारी डा. ब्रह्मदेव राम तिवारी ने शनिवार को कहीं।
जिलाधिकारी ने बताया कि शासन का जो निर्देश आया है उसको सभी राशन दुकानदारों के पास जिला आपूर्ति अधिकारी के माध्यम से पहुंचा दिया गया है। उन्होंने बताया कि महीने में पांच दिनों तक पात्र लोगों को प्रति यूनिट पांच किलो निःशुल्क चावल उपलब्ध कराया जाएगा। इसके लिए रोस्टर प्रणाली लागू की गयी है। रोस्टर प्रणाली के अनुसार जिन उपभोक्ताओं के कार्ड का नंबर एक से लेकर दो तक है उनको 15 अप्रैल को राशन उपलब्ध कराया जाएगा। जिनका नंबर तीन से लेकर चार तक है उनको 16 अप्रैल को, पांच से लेकर छह अंक वालों को 17 अप्रैल, सात से लेकर आठ अंक वालों को 18 अप्रैल और नौ अंक से शून्य अंक वालों को 19 अप्रैल को राशन मिलेगा। उन्होंने कहा कि इस दौरान सभी उपभोक्ता सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें और राशन दुकान की मशीन में अंगूठा लगाने से पहले और बाद साबुन से हाथ जरुर धुलें। अगर किसी को इस दौरान परेशानी होती है तो कंट्रोल रुम को जानकारी दे सकता है। उन्होंने कहा जनपद में हर जरुरमंद को राशन उपलब्ध कराया जा रहा है और तीन महीनों तक प्रति यूनिट पांच किलो निःशुल्क चावल उपलब्ध कराया जाएगा।
बनवायें राशन कार्ड
जिलाधिकारी डा. ब्रह्मदेव राम तिवारी ने निर्देशित करते हुए कहा कि समस्त जन सुविधा केंद्रों को आगामी आदेशों तक खोले जाने के निर्देश दिए गये हैं, ताकि जिन पात्र लोगों के राशन कार्ड बनने से रह गए हैं वह लोग अपने राशन कार्ड बनवा सके। जिसके लिए संबंधित को निर्देशित किया जा चुका है। जहां तक हो सके लोग अपने मोबाइल से फार्म भर सकते है, यदि इसके बाद भी यदि समस्या आ रही है तो जन सुविधा केंद्र में जाकर सोशल डिस्टेंसिग का पालन करते हुए जन सुविधा केंद्रों में अपने राशन कार्ड बनवाए।

Content Protection by DMCA.com

ये भी पढ़ें :

सभी तरह की शराब की बोतल पर लगेगा बारकोड-ACS आबकारी

Ajay Swarnkar

जालौन-इंटरनेट स्पीड धड़ाम, युवाओं ने जिओ एयरटेल का पुतला फूंका

AMIT KUMAR

तालाब में मछली पकड़ रहे ग्रामीणों के हाथ लगा दुर्लभ खजाना,

Ajay Swarnkar

अपना कमेंट दें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.