सोनी न्यूज़
उत्तर प्रदेश जालौन

पंडित परशुराम द्विवेदी पीजी कॉलेज जगम्मनपुर में हर्षोल्लास से मनाया गया संविधान दिवस…..

राष्ट्रीय सेवा योजना इकाई द्वारा छात्रों को संविधान के प्रति निष्ठा रखने की दिलाई गई शपथ।

जगम्मनपुर (जालौन)
राष्ट्रीय सेवा योजना इकाई पंडित परशुराम द्विवेदी पीजी कॉलेज जगम्मनपुर जालौन के तत्वाधान में आज 26 नवंबर को संविधान दिवस के रूप में हर्षोल्लास के साथ मनाया गया
एनएसएस कार्यक्रम अधिकारी अग्निवेश चतुर्वेदी ने इस अवसर पर अपने संबोधन में कहा प्रतिवर्ष 26 नवंबर को पूरे देश में संविधान दिवस मनाया जाता है हालांकि वैसे तो भारतीय संविधान 26 जनवरी 1950 को लागू हुआ था लेकिन इसे स्वीकृत 26 नवंबर 1949 को ही कर लिया गया था डॉक्टर बी आर अंबेडकर के अथक प्रयासों के कारण ही भारत का संविधान ऐसे रूप में सामने आया जिसे दुनिया के कई देशों ने और भी अपनाया हमें इस बात का गर्व है हमारे देश का संविधान दुनिया का सबसे बड़ा लिखित संविधान है जिसे लगभग 2 वर्ष 11 माह 18 दिन में तैयार किया गया संविधान की उपयोगिता और महत्व को देखते हुए 2015 में डॉ आंबेडकर की 125 वीं जयंती वर्ष में पहली बार माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की सरकार में 26 नवम्बर को संविधान दिवस मनाए जाने का निर्णय लिया गया था जिसे आज पूरा देश गौरव के साथ मना रहा है
इस अवसर पर बीएलएड विभागाध्यक्ष श्रीमती कमलेश पांडे कृषि विभाग अध्यक्ष डॉ दिलीप सिंह एवं डॉ रवि निरंजन और b.ed विभागाध्यक्ष डॉ मनीष पांडे ने भी छात्रों को संविधान की संरचना और उसके महत्व को विस्तार से समझाया

संविधान दिवस के इस अवसर पर राष्ट्रीय सेवा योजना इकाई द्वारा छात्रों को संविधान के प्रति श्रद्धा वन एवं सच्ची निष्ठा रखने की शपथ भी दिलाई गई
इस अवसर पर प्रमुख रूप से संजीव कुमार अवधेश शुक्ला अंकुर गुप्ता सहित एन एस एस स्वयंसेवक दिव्यांशु दीक्षित सत्यम ठाकुर प्रदीप बघेल सत्येंद्र बघेल नीरू कुमार दीपक बघेल राहुल बघेल गौरव महीपत कुशवाहा संतोष कुमार प्रमोद कुशवाहा अंकित राजपूत आदि प्रमुख रूप से मौजूद रहे।

 

रिपोर्ट-अमित कुमार जनपद जालौन।

Content Protection by DMCA.com

ये भी पढ़ें :

लोग छत्रपति शिवाजी के आदर्शों पर चले-अनुप्रिया पटेल

Ajay Swarnkar

घरेलू तरीको से बढ़ाया जा सकता है इम्युनिटी पावर:डॉक्टर सतीश दलेला

Ajay Swarnkar

जालौन:अखिल भारतीय कल्याण संस्थान की महिला जिलाध्यक्ष बनी रजनी देवी

Ajay Swarnkar

अपना कमेंट दें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.