सोनी न्यूज़
प्रचार
  • राजधानी लखनऊ में शुभ अवसरों पर विज्ञापन एवं बधाई सन्देश देने के लिए सम्पर्क करे-8299589254 निखिल श्रीवास्तव संवाददाता–लखनऊ,पूरे उत्तर प्रदेश में शुभ अवसरों पर विज्ञापन एवं बधाई सन्देश देने के लिए सम्पर्क करे-9415596496 -9935930825 -पूरे बुन्देलखण्ड शुभ अवसरों पर विज्ञापन एवं बधाई सन्देश देने के लिए सम्पर्क करे-अशफाक अहमद बुन्देलखण्ड व्यूरो-मो-9838580073 -जनपद जालौन में शुभ अवसरों पर विज्ञापन एवं बधाई सन्देश देने के लिए सम्पर्क करे--मो-8299896742,श्यामजी सोनी मो-9839155683,अमित कुमार मो-7526086812,जनपद झाँसी में शुभ अवसरों पर विज्ञापन एवं बधाई सन्देश देने के लिए सम्पर्क करे-अरुण वर्मा मो-9455650524-जनपद आजमगढ़ में शुभ अवसरों पर विज्ञापन एवं बधाई सन्देश देने के लिए सम्पर्क करे-रामानुजाचार्य त्रिपाठी मो-9452171219-जनपद कानपुर देहात में शुभ अवसरों पर विज्ञापन एवं बधाई सन्देश देने के लिए सम्पर्क करे-मनोज कुमार सिंह मो-9616891028-
जालौन

जालौन-ईद का त्योहार अमन ओर शांति के साथ मनाये-हाफिज मुहम्मद यूसुफ क़ादरी इमाम दादूपुरा मस्जिद।

जालौन-ईद का त्योहार प्यार-मोहब्बत और भाई-चारे का संदेश देता है। हाफिज मुहम्मद यूसुफ क़ादरी ने बताया कि इसी महीने में ही कुरान-ए-पाक का अवतरण हुआ था चांद के दीदार के अगले दि

न ईद मनाने का रिवाज है ईद को ईद-उल-फितर भी कहा जाता है ईद-उल-फितर सबसे पहले 624 ई. में मनाया गया था ओर इस बार दादूपुरा मस्जिद में ईद की नमाज़ हाफ़िज़ मुहम्मद यूसुफ क़ादरी ने ने ये ऐलान किया कि दादूपुरा मस्जिद में ईद उल फितर की नमाज़ 8:45 मिनिट पर होगी
हाफिज मुहम्मद अहमद ने बताया की ईद इस्लामिक कैलेंडर को हिजरी कैलेंडर के नाम से जाना जाता है इसमें साल का 9वां महीना रमजान होता है जिसे पवित्र माना जाता है जो पूरे 30 दिन का होता है इस माह में लोग रोजा रखते हैं इस पाक महीने के अंतिम दिन का रोजा चांद को देखकर ही खत्म किया जाता है। चांद दिखने के अगले दिन ईद का त्योहार मनाया जाता है.
हाफिज मुहम्मद शोएब अंसारी ने बताया कि पैगम्बर हजरत मुहम्मद साहब ने बद्र के युद्ध में फतह हासिल की थी इस युद्ध में फतह मिलने की खुशी में लोगों ने ईद का त्योहार मनाना शुरू किया साल में दो बार आती है ईद
हिजरी कैलेण्डर के अनुसार साल में दो बार ईद का त्योहार मनाया जाता है इस बार 5 या 6 जून को जो ईद मनायी जाएगी उसे ईद-उल-फितर या मीठी ईद कहा जाता है इस दिन सेवैया बनाने का रिवाज है दूसरी ईद को ईद-उल-जुहा या बकरीद कहा जाता है।
ईद पर दान देने का रिवाज
इस्लाम में ऐसा माना जाता है कि ईद के दिन जरूरतमंद लोगों को अपनी हैसियत के मुताबिक दान करना चाहिए। इससे गरीब और जरूरतमंद लोग भी खुशियों के साथ ईद का त्योहार मना पाएं। यह रिवाज इस त्योहार में चार चांद लगाता है।

रिपोर्ट-अमित कुमार क्राइम रिपोर्टर

Content Protection by DMCA.com

ये भी पढ़ें :

किसान विरोधी बिल का पूरे बुंदेलखंड स्तर पर गल्ला व्यापार संघ ने किया विरोध

Ajay Swarnkar

सूबे के मुखिया योगी को जिला प्रशासन ने करोड़ो की परियोजना बखान कर किया सन्तुष्ट

Ajay Swarnkar

शीत लहर को देखते हुए कस्बे में प्रशाशन ने जलबाए अलाव

Lavkesh Singh

अपना कमेंट दें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.