सोनी न्यूज़
उत्तर प्रदेश वीडियोस

जालौन-रेढ़र थाना क्षेत्र में हुई हत्या का पुलिस अधीक्षक ने किया खुलासा

उरई(जालौन)।उरई शहर के पुलिस लाइन सभागार में पुलिस अधीक्षक जालौन डॉ अविन्द चतुर्वेदी ने पिछले दिनों रेढ़र थाना क्षेत में हुई हत्या का किया खुलासा। पुलिस अधीक्षक जालौन डॉ अरविन्द चतुर्वेदी ने घटना के अनावरण के लिए रेढ़र थाना अनिल कुमार के नेतृत्व में टीम गठित की अपर पुलिस अधीक्षक सुरेंद्र नाथ तिवारी क्षेत्राधिकारी के निकट में टीम ने अत्यंत परिश्रमपूर्वक ढंग से कार्य करते हुए महत्वपूर्ण जमीनी साक्ष्य एकत्रित किए। इस दौरान वादी का पड़ोसी ब्रजेन्द्र कुशवाहा उपरोक्त एकाधिक कारणों से अधिक पाया गया घटना से पहले संदिग्ध हालत में वादी के घर के आस-पास देखा जाना।वादी के परिवार के वापस लौटने पर सबसे पहले उसके घर पहुंचकर शव उतरवाना पूछताछ के दौरान अपना कथन बदलना पुलिस को संदेह हुआ। वही पुलिस ने उसके सख्ती से पूछताछ की तो अभियुक्त ब्रजेश कुशवाहा ने बताया की वह कर्ज में डूबा हुआ था उसे पैसों की सख्त आवश्यकता थी उसे जानकारी थी कि मानसिंह पाल का परिवार काम मजदूरी के लिए सवेरे से ही चला जाता है उसका लड़का स्कूल चला जाता है और बड़ी लड़की अपने माता-पिताऔर छोटी बहन का खाना लेकर खेत पर चली जाती है इसलिए वह दिन में घर के पीछे के रास्ते से चोरी करने के इरादे से उसके घर में चोरी करने के बाद अचानक मानसिंह की लड़की पूरे बदन अचानक कमरे में आ गई।और अभियुक्त ने बताया की वह मुझे देख कर सामने से कच्चे कमरे की ओर भागी जहां रखी कंबल को उसने ओढ़ लिया शायद वह नहाने के लिए बैठी थी। और कुछ सामान लेने कमरे में आई थी।और मैंने उसको उड़े हुए कंबल में ही दबोच कर 10 मिनट मुँह दवाये रखा उसके निढाल हो जाने पर पास में पड़ी जानवर बांधने की रस्सी से गले में फंदा लगाकर बड़ी मुश्किल से भूसे के ढेर के पास ले गया और कम ऊँची छत की बल्ली से बांध के टांग दिया गया था।और समान लेकर भाग गया। वही अभियुक्त के पास से चोरी किया हुआ पूरा समान पुलिस द्वारा बरामद कर लिया गया।

Soni news के लिए जनपद जालौन से अमित कुमार क्राइम रिपोर्टर के साथ रंजीत सिंह

Content Protection by DMCA.com

ये भी पढ़ें :

उरई में पुलिस प्रशासन व स्कूली छात्र-छात्राओं की नई पहल

Ajay Swarnkar

70 वर्षीय बांग्ला देशी नागरिक का सफल उपचार कर सीतापुर भेजा गया

Ajay Swarnkar

इंडियन नेशनल लीग और राष्ट्रीय भागीदारी आंदोलन के द्वारा सभा हुई आयोजित

Ajay Swarnkar

अपना कमेंट दें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.