सोनी न्यूज़
जालौन

मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के तहत होंगे 225 जोडो के विवाह होंगे सम्प्न

  • उरई 
    जिलाधिकारी प्रियंका निरंजन की अध्यक्षता में विकास भवन सभागार में उ0प्र0 सरकार द्वारा समस्त वर्गो के गरीब व्यक्तियों की पुत्रियों की शादी हेतु संचालित मुख्यमंत्री सामूहिक ववाह योजना की जनपद स्तरीय समिति की बैठक सम्पन्न हुई। बैठक में जिलाधिकारी द्वारा मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के बारे में जानकारी की जिस पर जिला समाज कल्याण अधिकारी लालजी यादव द्वारा बताया गया कि 225 जोड़े हेतु बजट प्राप्त हुआ है जिसके संबंध में जिलाधिकारी द्वारा समस्त अधिशाषी अधिकारी नगर पालिका/नगर पंचायत से पंजीयन की स्थिति की जानकारी की जिस पर संबंधित अधिकारी द्वारा बताया गया कि अभी पंजीयन नही हुआ हैं। जिला समाज कल्याण अधिकारी द्वारा बताया गया कि उ0प्र0 के मूल निवासी ऐसे अभिभावक योजनान्तर्गत पात्र होगे जो निराश्रित, निर्धन व जरूरतमंद हों, गरीबी रेखा के सीमा के अन्तर्गत हो तथा उनकी पुत्री की आयु 18 वर्ष से अधिक हो।
  • उन्होने बताया कि विवाह हेतु एक जोड़े पर समाज कल्याण विभाग से 51,000/- रूपये (35,000/- कन्या के खाते में, 10,000/- विवाह संस्कार के लिए सामग्री हेतु तथा 6,000/- कार्यक्रम आयोजन में होने वाले व्यय हेतु) की धनराशि व्यय की जायेगी। जिलाधिकारी द्वारा सख्त निर्देश दिया कि प्रत्येक नगर पालिका कम से कम 25 जोड़े तथा नगर पंचायत कम से कम 10 जोड़े का पंजीयन कराये तथा साथ ही यह भी निर्देशित किया कि जनपद में दिनांक 25.07.2021 को सभी विकास खण्डों तथा नगर पालिका/नगर पंचायतों में सामूहिक विवाह आयोजन हेतु तिथि निर्धारित की गयी हैं। इच्छुक पात्र व्यक्ति संबंधित विकास खण्ड/नगर पालिका/नगर पंचायत कार्यालय में किसी भी कार्यदिवस में सम्पर्क कर आवेदन कर सकते हैं।
  • बैठक में मुख्य विकास अधिकारी डा0 अभय कुमार श्रीवास्तव, ए0आर0टी0ओ0 सोमलता यादव, समस्त अधिशाषी अधिकारी नगर पालिका/नगर पंचायत, जिला सूचना अधिकारी के0वी0मिश्र सहित विभागीय अधिकारी मौजूद रहे।
Content Protection by DMCA.com

ये भी पढ़ें :

कोंच की अस्थाई गौशाला बना गौवंश का मृत्यु शाला।

Ajay Swarnkar

युवा ज़िला पंचायत सदस्य रामेन्द्र त्रिपाठी ने गरीबों की मदद के लिए उठाया जिम्मा

Lavkesh Singh

समाज का हर वर्ग गरीबो की मदद कर,निभा रहा अपना धर्म

ranjeet singh

अपना कमेंट दें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.