सोनी न्यूज़
उत्तर प्रदेश

उत्तर प्रदेश राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन एवं बैंको के मध्य साझेदारी तथा प्रदेश के 50665 स्वयं सहायता समूहों को 607 करोड़ बैंक क्रेडिट लिंकेज का हुआ वितरण

उत्तर प्रदेश राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन एवं बैंको के मध्य साझेदारी तथा प्रदेश
के 50665 स्वयं सहायता समूहों को 607 करोड़ बैंक क्रेडिट लिंकेज का वितरण

आजीविका मिशन के तहत ग्रामीण अंचलों की निर्धन महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने
पर बल

ग्राम्य विकास मंत्री ने आनलाइन खाता खोलने संबंधी पोर्टल का उद्घाटन किया

ग्राम्य विकास विभाग का अपना नवीन भवन होगा
– श्री मोती सिंह

उत्तर प्रदेश के ग्राम्य विकास मंत्री श्री राजेन्द्र प्रताप सिंह ‘मोती सिंह‘ ने कहा कि उत्तर प्रदेश राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन प्रदेश के सभी 75 जनपदों में ग्रामीण क्षेत्रों के 48 लाख से अधिक ग्रामीण परिवारों को 4.54 लाख स्वयं सहायता समूहों के माध्यम से सामाजिक एवं वित्तीय समावेशन द्वारा रोजगार सृजन करते हुए आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में तेजी से कार्य कर रहा है।
ग्राम्य विकास मंत्री आज यहां इन्दिरा गांधी प्रतिष्ठान में उत्तर प्रदेश राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन एवं बैंकों के मध्य साझेदारी तथा प्रदेश के 50665 स्वयं सहायता समूहों को 607 करोड़ बैंक क्रेडिट लिंकेज के वितरण के संबंध में आयोजित कार्यक्रम को सम्बोधित कर रहे थे।
इस मौके पर बैंकांे से स्वयं सहायता समूहों को मिलने वाली विभिन्न सेवाओं जैसे समूहों का बैंक खाता खोलना, समूहों को ऋण प्रदान करना इत्यादि गतिविधियों को तीव्र गति से संचालित किये जाने हेतु मिशन एवं 8 पब्लिक सेक्टर के बैंको तथा 3 क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकांे के मध्य अनुबन्ध हस्ताक्षरित किया गया। इसके अतिरिक्त 50,665 स्वंय सहायता समूहों के 5 लाख परिवारों को 607 करोड़ का बैंक ऋण दिया गया।


ग्राम्य विकास मंत्री ने इस मौके पर आनलाइन खाता खोलने संबंधी पोर्टल का उद्घाटन भी किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश हिन्दुस्तान का पहला राज्य है, जिसने खाता खोलने की आनलाइन व्यवस्था की है। वह दिन दूर नहीं, जब अपना प्रदेश देश के सभी राज्यों में सर्वश्रेष्ठ होगा।
ग्राम्य विकास मंत्री ने अपर मुख्य सचिव, श्री मनोज कुमार सिंह की ओर इंगित करते हुए कहा कि ग्राम्य विकास विभाग का अपना कोई भवन नहीं है, अतः वे होली के अवसर पर नवीन भवन को तोहफे के रूप में दे रहे हैं।
ग्राम्य विकास मंत्री श्री राजेंद्र प्रताप सिंह “मोती सिंह” ने प्रदेश सरकार की मंशा के अनुरूप मिशन की उपलब्धियों पर विशेष रूप से प्रकाश डालते हुए कहा कि प्रदेश में 48 लाख से अधिक ग्रामीण क्षेत्र की निर्धन परिवारों को एक सशक्त ढांचागत संस्था के रूप में 4.54 लाख से अधिक स्वयं सहायता समूहों, 20100 ग्राम संगठनो एवं 1010 संकुल स्तरीय संघो के माध्यम से आच्छादन किया जा चुका है, जो की गरीबी उन्मूलन की दिशा में एक महत्वपूर्ण प्रयास है। आगामी दिनों में हम सब इसी प्रकार नवीन उर्जा एवं समर्पण, बेहतर समन्वय के साथ प्रधानमंत्री एवं मुख्यमंत्री के सबका साथ सबका विकास, समानता एवं अन्त्योदय के लक्ष्य को हासिल करेंगे।


अपर मुख्य सचिव, ग्राम्य विकास श्री मनोज कुमार सिंह द्वारा बताया गया कि प्रदेश सरकार की दूरगामी निर्णयों एवं माननीय मुख्यमंत्री जी के मार्ग दर्शन से ग्राम स्तर पर आजीविका मिशन द्वारा सूक्ष्म वित्त एवं वित्तीय सेवाआंे को गति प्रदान करने की दिशा में ग्रामीण क्षेत्रों में बैंकिंग सुविधाओं को सुगम, ससमय, त्वरित एवं सहज बनाने और महिला स्वावलंबन द्वारा प्रदेश की सभी 58000 ग्राम पंचायतो में एक पंचायत-एक बीसी सखी की पदस्थापना सम्बन्धित कार्य प्रारंभ किया जा चुका है।

श्री सुजीत कुमार, मिशन निदेशक ने उत्तर प्रदेश राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन ने मिशन की महत्वपूर्ण उपलब्धियों के सम्बन्ध में जानकारी को साझा किया। उन्होंने बताया कि मिशन के अंतर्गत स्वयं सहायता समूह की दीदीयों द्वारा 1.20 करोड़ मास्क निर्माण, 1.05 करोड़ स्कूल ड्रेस निर्माण, ’बलिनी मिल्क प्रोड्यूसर कम्पनी के माध्यम से 7000 महिला सदस्यों के साथ बुंदेलखंड में प्रतिदिन 22 हज़ार 500 किलो ग्राम दुग्ध का संग्रह, 61050 समूहों द्वारा ड्राई राशन की उपलब्धता 163260 आंगनबाड़ी केन्द्रों पर, स्टार्टअप विलेज इंटरप्रयूनेरशिप प्रोग्राम के अंतर्गत कुल 9045 लघु उधमियों को सूक्ष्म एवं लघु उद्योगों के द्वारा स्वः रोजगार एवं 29 लाख सोलर स्टडी लैम्प को विद्यार्थियों को उपलब्ध कराया जाना प्रमुख है।

मिशन निदेशक ने कहा कि फार्म आजीविका के अंतर्गत अभी तक 52 जनपदों के 340 विकासखंडो में सतत कृषि प्रक्रिया के माध्यम से उन्नत खेती हेतु लगभग 5 लाख 22 हजार महिला किसानों को प्रक्षिक्षण प्रदान किया जा चुका है। ग्राम स्तर पर पदस्त एवं कार्यरत 13900 कृषि आजीविका सखी, कृषि सखी, पशु सखी के माध्यम से महिला किसानों को सहयोग प्रदान किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि आजीविका ग्रामीण एक्सप्रेस योजना के अंतर्गत उत्कृष्ट कार्य हेतु प्रदेश को राष्ट्रीय स्तर पर प्रथम स्थान प्राप्त करने पर भारत सरकार द्वारा गोल्ड मेडल प्रदान किया गया।
श्री सुजीत कुमार ने कहा कि 6293 महिला स्वयं सहायता समूह की सदस्यों द्वारा बिल कलेक्शन सम्बंधित कार्य किया जा रहा है। उचित दर की दुकान का संचालन एवं प्रबंधन की दिशा में 1370 दुकान का आवंटन स्वयं सहायता समूह को किया जा चुका है। पंचायती राज विभाग से अभिसरण के माध्यम से ग्राम स्तर पर कुल 514 विकास खंडो में 18613 ग्राम पंचायतो के सामुदायिक शौचालय का प्रबंधन समूह की महिलाआंे द्वारा किया जा रहा है।
कार्यक्रम के अंत में राज्य परियोजना प्रबंधक मोह्ममद मुस्तफा द्वारा सभी का धन्यवाद दिया गया। कार्यक्रम के दौरान, संयुक्त मिशन निदेशक श्री मथुरा प्रसाद मिश्र, श्री प्रदीप कुमार, श्री मदन वर्मा, मिशन मुख्यालय के अधिकारी, बैंकिंग संस्थाओ के प्रतिनिधि, प्रदेश के समस्त जनपदों के उपायुक्त स्वत रोजगार, नोडल जिला मिशन प्रबंधक एवं जनपद हरदोई , सीतापुर, लखनऊ एवं उन्नाव जनपद के नोडल ब्लाक मिशन प्रबन्धक, स्वंय सहायता समूहों के सदस्य उपस्थित रहे।

Content Protection by DMCA.com

ये भी पढ़ें :

देखें दबंग महिला ने पुलिस और पत्रकारों को दी भद्दी गालियां, पुलिस दबे पैर वापस लौटी

Ajay Swarnkar

जालौन-आटा पुलिस ने पाँच अभियुक्तों को पकड़ा-अपर पुलिस अधीक्षक ने किया खुलासा।

AMIT KUMAR

जनता को लॉक डाउन के नियमों को समझाता नजर आया पुलिस प्रशासन

ashish knp

अपना कमेंट दें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.