सोनी न्यूज़
प्रचार
  • राजधानी लखनऊ में शुभ अवसरों पर विज्ञापन एवं बधाई सन्देश देने के लिए सम्पर्क करे-8299589254 निखिल श्रीवास्तव संवाददाता–लखनऊ,पूरे उत्तर प्रदेश में शुभ अवसरों पर विज्ञापन एवं बधाई सन्देश देने के लिए सम्पर्क करे-9415596496 -9935930825 -पूरे बुन्देलखण्ड शुभ अवसरों पर विज्ञापन एवं बधाई सन्देश देने के लिए सम्पर्क करे-अशफाक अहमद बुन्देलखण्ड व्यूरो-मो-9838580073 -जनपद जालौन में शुभ अवसरों पर विज्ञापन एवं बधाई सन्देश देने के लिए सम्पर्क करे-रंजीत सिंह-मो-8423229874,श्यामजी सोनी मो-9839155683,अमित कुमार मो-7526086812,जनपद झाँसी में शुभ अवसरों पर विज्ञापन एवं बधाई सन्देश देने के लिए सम्पर्क करे-अरुण वर्मा मो-9455650524-जनपद आजमगढ़ में शुभ अवसरों पर विज्ञापन एवं बधाई सन्देश देने के लिए सम्पर्क करे-रामानुजाचार्य त्रिपाठी मो-9452171219-जनपद कानपुर देहात में शुभ अवसरों पर विज्ञापन एवं बधाई सन्देश देने के लिए सम्पर्क करे-मनोज कुमार सिंह मो-9616891028-
उत्तर प्रदेश

ओला वृष्टि से फसलों KO नुकसान पांच मिनट तक बेर के आकार के ओले गिरते रहे

कोंच।लोगों की रविवार की सुबह ओलों के साथ हुई है। तगड़ी बौछार के साथ लगभग पांच मिनट तक बेर के आकार के ओले गिरते रहे और किसानों के कलेजे दहशत में कांपते रहे। जब ओला वृष्टि बंद हुई तब किसानों ने खेतों की ओर दौड़ लगाई। यह देख कर उन्होंने राहत की सांस ली कि फिलहाल इस वृष्टि में फसलों को ज्यादा नुकसान नहीं हुआ लेकिन ऐसी पुनरावृत्ति फिर न हो, ऐसी कामना वे ईश्वर से करते देखे गये। प्रशासन ने ओला वृष्टि से हुये नुकसान का जायजा लेने के लिये राजस्व कर्मियों की टीमों को लगा दिया है। तहसीलदार भूपाल सिंह के मुताबिक इस ओला वृष्टि से फसलों में किसी नुकसान की खबर नहीं है।

रविवार की सुबह आसमान पर हालांकि बादल घुमड़ रहे थे लेकिन किसी को ये अंदेशा नहीं था कि ओले भी गिर सकते हैं। लगभग नौ बजकर दस मिनट पर अचानक ही तड़तड़ की आवाजें आने लगी और गरज के साथ ओलों की शुरू हो गई जो तकरीबन पांच-सात मिनट तक जारी रही। इस ओला वृष्टि में बेर के आकार के ओले गिरे थे। मजा लेने बाले ओलों में सेल्फी का भी आनंद लेते रहे तो कईयों ने थालियों आदि में इन्हें भरना शुरू कर दिया। इसके बाद हल्की बूंदाबांदी भी हुई जिसके चलते बैरोमीटर में पारा लुढक कर नीचे आ गिरा और सर्दी बढ गई। बच्चों ने गिलासों में भर कर ओलों का मजा बर्फ के गोलों की तरह भी लिया। मिली जानकारी में बताया गया है कि ओलों का सबसे ज्यादा असर शहरी क्षेत्र में रहा, ग्रामीण अंचलों में कमोवेश इनकी मात्रा काफी कम रही जिससे नुकसान होते होते बच गया। गोराकरनपुर, पचीपुरा कलां, गुरावती, छानी, भेंड़, पडऱी, भदारी, अंडा, महंतनगर, घुसिया आदि इलाकों में भी ओले गिरने की खबरें तो हैं लेकिन फसलों का नुकसान बच गया बताया गया है। इधर, प्रशासन ने भी राजस्व कर्मियों की टीम को फसलों में हुये नुकसान का जायजा लेने के लिये लगाया है। खुद तहसीलदार भूपाल सिंह ने भी कई इलाकों में खेतों में जाकर फसलों को देखा है।
उन्होंने बताया है कि फिलहाल फसलें सुरक्षित हैं। पूरी रिपोर्ट आने के बाद नुकसान की तस्वीर साफ हो सकेगी। उधर, नदीगांव इलाके में ओले गिरने की कोई सूचना नहीं है।

Content Protection by DMCA.com

ये भी पढ़ें :

लॉक डाउन में मिला गोबर से रोजगार गोबर से बनी राखी ने मचाई धूम

Ajay Soni

झांसी-75 साल से हो रही लगातार नाग की पूजा नाग पंचमी को लगता है बड़ा मेला

Ajay Soni

देशभर के कर्मचारी 1 जुलाई को कर्तव्य दिवस मनाएंगे-इप्सेफ

Ajay Soni

अपना कमेंट दें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.