सोनी न्यूज़
महाराष्ट्र

मुम्बई:नेशनल मदर्स ब्लेस अवार्ड से संम्मानित हुईं छाया पांचाल

 

👉पहले भी कई अवार्ड से हो चुकी है सम्मानित

मुम्बई: पूरे भारत के कलाकार,साहित्यकार,शिक्षक व बाल कलाकार को “सिर्फ और सिर्फ माँ” पर अपनी रचना,लेख लिखकर एवं पोस्टर बनाकर ऑनलाइन भेजना था जिसमें उड़ीसा,गुजरात,मध्य प्रदेश ,बिहार,महाराष्ट्र, कर्नाटक,दिल्ली,उत्तराखंड, छत्तीसगढ़,उत्तर प्रदेश सहित से रचनाये रचना भेजी गयी।जिसमें छाया पांचाल की रचना चयनित की गई और उन्हें 10 मई को नेशनल मदर्स ब्लेस अवार्ड से सम्मानित किया गया।

अवार्ड लेते वक्त छाया पांचाल ने संपूर्ण देशवासियों से अपील की और कहा कि संसार में सारे दिवस हम लोग बहुत धूम-धाम से मनाते हैं लेकिन उस माँ को हम न भूले जिसने हमें जन्म दिया।तदोपरांत छाया पांचाल को ऑनलाइन प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया गया । इस मौके पर आयोजक मण्डल ने इनको बधाई दी।

कार्यक्रम संयोजक सुनील कुमार आनन्द समन्वयक भाभा विज्ञान क्लब विपनेट गोण्डा विज्ञान एवं प्रोधोगिकी भारत सरकार , कार्यक्रम प्रभारी एस बी सागर संस्थापक स्वदेश सेवा संस्थान भारत व मार्गदर्शन जी पी आर्ट सचिव शान्ती फाउंडेशन एवं श्रीमती पिंकी देवी अध्यक्ष शान्ती फाउंडेशन गोण्डा (कार्य क्षेत्र सम्पूर्ण भारत),शिव प्रसाद संस्थापक शान्ती फॉउन्डेशन व रमेश आनन्द तकनीकी सहायक के द्वारा सभी प्रतिभागियों को ई पोस्टर प्रतियोगिता में ई सर्टिफिकेट से सम्मानित किया गया

👇एक नजर यहाँ भी


दरसल छाया जी एक लेखिका के साथ साथ एक चित्रकार भी है इनको शुरू से ही चित्रकारी का शौक रहा है और वो आज एक ट्रेनिंग सेन्टर भी संचालित कर रही है जिसमे दर्जनों की संख्या में बच्चे आपने हुनर को एक मुकाम देने में जुटे है ।छाया जी ने अबतक 500 के करीब बच्चों को चित्रकारी का हुनर सिखा चुकी है।और ये सब वो छाया फाउंडेशन मुम्बई के बैनर तले संचालित करती है
उनके पति संजय पांचाल जो पेशे से फिजियोथेरिपिस्ट है का कहना है कि उनके इस कार्य को देख धीरे धीरे हम भी सहयोग करने में लगे है।ताकि वो अपनी इस प्रतिभा को देश विदेश तक पहुँचा सके।

Content Protection by DMCA.com

ये भी पढ़ें :

सात भाषाओ में गाने वाली आवाज ने दुनिया को कहा अलविदा

Ajay Swarnkar

 “बगल वाली जान मारेली” का मुहूर्त संपन्न ।

Ajay Swarnkar

बॉलीवुड अभिनेता इरफान खान का 53 साल की उम्र में निधन

Ajay Swarnkar

अपना कमेंट दें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.