Website is under major maintainence, few features won't be available this month. Thank You - Webioy

सोनी न्यूज़
उत्तर प्रदेश धर्म

जालौन-पंचनद मेला महोत्सव में जुटेंगे लगभग एक लाख से अधिक श्रद्धालु

प्रशासन की चाक-चौबंद व्यवस्था, चप्पे-चप्पे पर रहेगी पुलिस की निगाह

 

जगम्मनपुर ,जालौन । बुंदेलखंड के प्रसिद्ध पंचनद स्नान मेला महोत्सव पर प्रशासन की ओर से पुख्ता तैयारियों के बीच 19 नवम्बर के प्रातः तीन बजे से लाखों श्रद्धालु पंचनद संगम के पवित्र जल में स्नान करेंगे।
जनपद जालौन के उत्तर पश्चिम में जिला मुख्यालय उरई से 70 किमी दूर जगम्मनपुर के निकट पंचनद संगम तीर्थ पर प्रतिवर्ष कार्तिक की पूर्णिमा के पर सात दिवसीय विराट स्नान मेला का आयोजन होता है, इस अवसर पर यहां जालौन औरैया इटावा कानपुर देहात मैनपुरी फर्रुखाबाद भिंड ग्वालियर मुरैना एवं राजस्थान के लाखों श्रद्धालु पंचनद के पवित्र जल में डुबकी लगाते हैं। इस वर्ष कार्तिक पूर्णिमा 19 नवम्बर को है अतः 19 नवंबर को प्रातः 3 बजे से वहां स्नान प्रारंभ हो जाएगा। ज्ञात हो कि गत 2 वर्षों से कोरोना महामारी के चलते स्नान पर्व मेला का आयोजन फीका रहा लेकिन इस वर्ष यहां वही पुराने अंदाज में श्रद्धालुओं के जुटने की संभावना है। पंचनद स्थित श्री बाबासाहब मंदिर के महंत श्री सुमेरवन ने बताया कि इस वर्ष लगभग डेढ़ से दो लाख लोग कार्तिक की पूर्णिमा को पंचनद संगम के पवित्र जल में स्नान करेंगे । श्री बाबासाहब मंदिर प्रबंध समिति के अध्यक्ष हरगोविंद सिंह सेंगर ने बताया कि मेला में लगने वाली दुकानों की संख्या गत बर्षो की तुलना इस वर्ष अधिक है । ग्राम प्रधान मनोज सिंह उर्फ गुड्डू सिंह सेंगर ने बताया कि पंचायत की ओर से श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए पूर्ण प्रबंध किए गए हैं।
अवगत हो कि पंचनद पर कार्तिक की पूर्णिमा पर स्नान मेला की परंपरा हजारों वर्ष पुरानी है मुगल काल में बादशाह अकबर एवं मराठा छत्रपतियों तथा बुंदेलखंड के महाराजा छत्रसाल की ओर से पंचनद के संगम तट पर बने आश्रम में रहने बाले साधु सन्यासियों , तपस्वियों के भरण पोषण व आश्रम प्रबंधन के लिए समायोजित राजकीय प्रयास किए गए हैं । राजतंत्र में मेला प्रबंधन का कार्य जगम्मनपुर के राजा स्वयं करते रहे हैं । वर्तमान मैं मेला प्रबंधन का कार्य प्रशासन एवं ग्राम पंचायत भिटौरा व श्री बाबा साहब मंदिर प्रबंध समिति संयुक्त रुप से करती है । पूर्णिमा पर स्नान के लिए जुटने बाली भीड व मेला प्रबंधन पर उप जिलाधिकारी माधौगढ़ राजेश सिंह ने बताया की स्नान घाटों पर श्रद्धालुओं के लिए सुविधाजनक व्यवस्था की गई है, नदी तट पर प्रकाश के उचित बंदोबस्त किए गए हैं व सुरक्षा की दृष्टि से नौकाओं तथा नाविकों का प्रबंध किया गया है , फॉकिंग मशीन द्वारा मंदिर एवं आसपास के इलाके को सैनिटाइज किया जा रहा है । थानाध्यक्ष कमलेश कुमार ने बताया कि मेला में सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए जा रहे हैं , नदी में जहां पानी अधिक गहरा है उस स्थान पर बैरिकेडिंग की जा रही है। जेब कतरों, टप्पेवालों व रंगीनमिजाजों पर सख्त निगाह रहेगी, कोई अपराधिक घटना अथवा कोई दुर्घटना न हो इसके लिए प्रत्येक पॉइंट पर पुलिस बल तैनात किया जाएगा।

ये भी पढ़ें :

कश्यप समाज पिछड़ा एकीकरण मंच, 20 जनवरी को करेगा सामूहिक विवाह

Ajay Swarnkar

राज्यपाल द्वारा ‘योगी आदित्यनाथः राजपथ पर एक सच्चा सन्यासी’ पुस्तक का विमोचन

Ajay Swarnkar

उरई-असलाह फैक्ट्री का हुआ पर्दाफाश तमंचा बनाने के उपकरण सहित एक गिरफ्तार

Ajay Swarnkar

अपना कमेंट दें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.