प्रचार
  • पूरे उत्तर प्रदेश में शुभ अवसरों पर विज्ञापन एवं बधाई सन्देश देने के लिए सम्पर्क करे-9415596496 -9935930825 -पूरे बुन्देलखण्ड शुभ अवसरों पर विज्ञापन एवं बधाई सन्देश देने के लिए सम्पर्क करे-अशफाक अहमद बुन्देलखण्ड व्यूरो-मो-9838580073 -जनपद जालौन में शुभ अवसरों पर विज्ञापन एवं बधाई सन्देश देने के लिए सम्पर्क करे-रंजीत सिंह-मो-8423229874,श्यामजी सोनी मो-9839155683,अमित कुमार मो-7526086812,जनपद झाँसी में शुभ अवसरों पर विज्ञापन एवं बधाई सन्देश देने के लिए सम्पर्क करे-रवि साहू मो-9838626183अरुण वर्मा मो-9455650524
  •  
उत्तर प्रदेश भंडाफोड़

जालौन-डूडा विभाग बना दलालों का अड्डा।

(जालौन)।उरई यदि आप जल्द रूपये कमाना चाहते है तो आप भी जिला मुख्यालय उरई में डूडा विभाग के कुछ भृष्ट अधिकारियों व कर्मचारियों से मिल लीजिये और जल्द ही आप हरे हरे नोटों को पर अपना हक़ जमा सकते है | ये हाल हमारे जनपद के डूडा विभाग का है, जिसका आज की तारीख में कोई भी करता-धरता नहीं है।सरकार की के द्वारा प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत गरीबों को अपने घर का सपना साकार हुआ या नहीं हुआ हो लेकिन विभाग के आला अधिकारियों के द्वारा छोड़े गये दलालों के घर जरुर बन गये है |विभाग के द्वारा प्रधानमंत्री आवास योजना के कार्य के लिये नियुक्त किये गये संविदाकर्मी अपने आपको अधिकारी मानते है।और खुले आम गरीबों,बेबस,कमजोर,लाचार चयनित लोगो को जिओ टेगिंग, नगरपालिका की जाँच, तहसील की जाँच और बजट समाप्त होने का डर दिखा कर ,विभाग की सह पर बहार छोड़े गये लोगो से उनके आवास की किश्त दिलवाने, आवास पास करवाने आदि के नाम पर सुविधा शुल्क तय किया जाता है।और जैसे ही बजट आता है तो तुरन्त अपात्रों और तयशुदा लोगो फंड ट्रांसफर कर दिया जाता है | शहर में प्रधानमंत्री आवास योजना के भ्रष्टाचार के तहत आवंटित रुपये से बनवाये गये बहुमंजिला भवन देखने को मिल जायेंगे | और जरूरतमंद आज भी विभाग के चक्कर काट रहा है।
खास बात तो यह है कि-डूडा विभाग के ऊपर कई बार भ्रष्टाचारी के आरोप लग चुके हैं लेकिन डूडा विभाग के अधिकारी व कर्मचारी अपनी आदत से बाज नहीं आ रहे हैं।

रिपोर्ट-अमित कुमार क्राइम रिपोर्टर उरई जनपद जालौन

ये भी पढ़ें :

कानपुर: आईपीएस सुरेंद्र दास की इलाज के दौरान मौत,आत्महत्या के प्रयास में खाया था जहरीला पदार्थ

Ajay Soni

देखे झांसी से मुख्यमंत्री ने प्रशासनिक अधिकारियों से एवं कानून व्यवस्था को लेकर क्या कहा

Ajay Soni

शव जिसकी जीविका का साधन है।

Ajay Soni

अपना कमेंट दें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.