प्रचार
  • पूरे उत्तर प्रदेश में शुभ अवसरों पर विज्ञापन एवं बधाई सन्देश देने के लिए सम्पर्क करे-9415596496 -9935930825 -पूरे बुन्देलखण्ड शुभ अवसरों पर विज्ञापन एवं बधाई सन्देश देने के लिए सम्पर्क करे-अशफाक अहमद बुन्देलखण्ड व्यूरो-मो-9838580073 -जनपद जालौन में शुभ अवसरों पर विज्ञापन एवं बधाई सन्देश देने के लिए सम्पर्क करे-रंजीत सिंह-मो-8423229874,श्यामजी सोनी मो-9839155683,अमित कुमार मो-7526086812,जनपद झाँसी में शुभ अवसरों पर विज्ञापन एवं बधाई सन्देश देने के लिए सम्पर्क करे-रवि साहू मो-9838626183अरुण वर्मा मो-9455650524
  •  
उत्तर प्रदेश वीडियोस

नही रुक रही है खेतो में पराली जलाने की घटना

 

✍🏻 जहां सुप्रीम कोर्ट से लेकर केंद्र और प्रदेश सरकार बढ़ते प्रदूषण की रोकथाम लगाने के लिए हर संभव प्रयास कर रहे हैं। इसके लिए चाहे प्रदूषण फैला रही फैक्ट्री पर कार्यवाही करना हो या फिर पराली जलाने रहे किसानों पर। इसके चलते यूपी में अधिकांश जनपदों में पराली जला रहे किसानों पर बड़े स्तर पर कार्यवाही हुई है। किसानों पर मुकदमा लिखने के साथ जुर्माना भी वसूला जा रहा है। बावजूद इसके किसान पराली जलाने से बाज नहीं आ रहे हैं। किसान बेखौफ होकर पराली जला रहे हैं। जिससे चारों का धुंआ फैल रहा है और तेजी से प्रदूषण में भी बृद्धि हो रही है। ऐसा ही एक नजारा यूपी के जनपद कानपुर देहात में देखने को मिला। जहां किसान बेखौफ होकर खेतों में पराली को जलाकर नष्ट कर रहे हैं। वही जिला प्रशासन ऐसे किसानों पर कार्यवाही की बात कह रहा है।

मामला है जनपद कानपुर देहात के सिकंदरा तहसील क्षेत्र के जगन्नाथपुर गांव का। जहां पर कई किसानों ने पहले तो धान की फसल को हार्वेस्टर से कटा दिया और फिर बाद में बेखौफ होकर खेतों में खड़े पराली को आग लगा दी। जो साफ तौर से सर्वोच्च न्यायालय के आदेशों की अवहेलना है। यही नहीं प्रदूषण भी बड़ी तेजी बढ़ रहा है। वही प्रशासन पराली जला रहे किसानों पर कार्यवाही किए जाने की बात कह रहा है। अब देखने की बात यह होगी कि कब किसान खेतों पर पराली जलाना बंद करेगा और कब पराली जला रहे किसानों पर जिला प्रशासन कार्यवाही करेगा।
वहीं जिलाधिकारी राकेश कुमार सिंह की माने तो जिला प्रशासन ने किसानों द्वारा खेतों में पराली जलाने के मामले की रोकथाम और किसानों को जागरूक करने के लिए एसएमएस को जरिया बनाया है। एसएमएस के माध्यम से किसानों को पराली जलाने से रोकने और इसका उल्लंघन करने पर कड़ी कार्यवाही किए जाने की जानकारी दी जा रही है। वहीं जिला प्रशासन ने फील्ड में काम करने वाले कर्मचारियों के माध्यम से भी पराली जलाने की घटनाओं की रोकथाम करने की सुविधा बनाई है। साथ ही लापरवाही बरतने पर कड़ी कार्यवाही किए जाने की चेतावनी भी दी गई है।

रिपोर्ट – मनोज सिंह । कानपुर देहात

ये भी पढ़ें :

जालौन-उरई में ओम सेवा संस्थान द्वारा लगाया गया रक्तदान शिविर।रक्तदान से बड़ा कोई दान नही-सुनील हिंदुस्तानी

Amit kumar

लखनऊ:न्याय की गुहार लगाने गई महिला को थाने से भगाया

Ajay Soni

जालौन-आखिर क्यों नहीं रुक रहे ओवरलोड ट्रक

Ajay Soni

अपना कमेंट दें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.