जालौन-जनता में बिजली कटौती को लेकर आक्रोश मुख्यमंत्री को भेजा ज्ञापन

जालौन: जालौन नगर में विद्युत विभाग द्वारा की जा रही अंधाधुंध कटौती के खिलाफ तहसील परिसर में “नगर विकास संघर्ष समिति” के कई दर्जन लोगों ने उपजिलाधिकारी दके माध्यम से महामहिम राज्यपाल व मा० मुख्यमंत्री उ०प्र० सरकार को ज्ञापन भेजा और बताया गया कि शासन के आदेशानुसार नगर जालौन को 20 घंटे बिजली मिलना सुनिश्चित किया गया है। लेकिन विद्युत विभाग के अधिकारी इस आदेश को पलीता लगा रहे हैं। नगर क्षेत्र में मुश्किल से 6-7 घंटे ही बिजली मिल पा रही है।वही एक ओर जनता भीषण गर्मी व जल संकट भी खड़ा हो गया है।

वही नगर वासियों के कहना है कि अगर कोई भी विद्युत विभाग के लिये फोन करता है तो कोई भी अधिकारी फोन तक उठाने की जहमत नहीं करता है।और यदि कोई व्यक्ति मिलने पहुँचता है तो उस व्यक्ति को डरा-धमका कर भगा दिया जाता है।
वही समिति के सहसंयोजक पप्पू चौहान ने कहा कि यदि आगामी 48 घंटों में बिजली व्यवस्था सुचारू रूप से शुरू न हुई व रोस्टिंग का समय निर्धारित नहीं किया गया। तो जनता सड़कों पर उतरकर आंदोलन करने पर विवश होगी। और इसकी सम्पूर्ण जिम्मेदारी प्रशासन की होगी।

आखिर किसकी सह से बिजली विभाग के अधिकारी कर रहे मनमानी

ज्ञापन देते समय- नरेश बाबू सोनी(नगर अध्यक्ष BSP), चंद्रप्रकाश यादव(थोपन), गौरीश द्विवेदी(नगर अध्यक्ष कांग्रेस), इमरान अंसारी (सपा नेता), गजेंद्र सिंह सभासद, आलोक भदौरिया सभासद, नईम खान सभासद, नईम अंसारी सभासद, सभासद नफीस सिद्दीकी, सभासद सोमिल यागिक, सभासद अनिल यादव, सभासद नरसिंह यादव,ब्रजमोहन कुशवाहा (विधानसभा अध्यक्ष बसपा), गोलू श्रीवास्तव, सोनू सिंह राजावत, अनुपम गुर्जर, विवेक दीक्षित, हरिओम मिश्रा (एड०), अंकुर गुप्ता बजाज, आशीष द्विवेदी (भोले), मोनू गुर्जर, उमाशंकर चतुर्वेदी, अकील अहमद, गुड्डू अंसारी, मनोज चौरसिया, असलम सिद्दीकी (एड०), प्रद्युम्न दीक्षित इटहिया, फानिस खान, चौ०विक्रांत यादव, ओमप्रकाश सोनी, राजू यादव,अन्नू महाराज,वसीउर्रहमान सिद्दीकी, दिनेश सोनी, अरबाज, अनस सिद्दीकी, सोनू, बबलू यादव, चंद्रशेखर वर्मा लौना, गोपालजी खैमरिया, भानुप्रताप द्विवेदी, योगेश चंद्र त्रिपाठी (एड०),गोल्डी अवस्थी, लालन ताम्रकार आदि उपस्थित रहे।

Soni news के लिए जनपद जालौन से अमित कुमार के साथ रंजीत सिंह

Related Posts

News Reporter Details

Add Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.